Saturday, 15 March 2014

नहि कर बरजोड़ी

ओ बांके छोरे तू, छोड़ मोरी बहियाँ
नहि कर बरजोरी, नहि गलबहियाँ

पिया नहि पास मोहे, कैसे खेलूँ होरी
मन सुन आँगन सुना, पास तन्हाईयाँ
ओ बांके छोरे तू, छोड़ मोरी बहियाँ

भाए नहि तीज़ ये, भाए न त्यौहार है 
मन को भाए मोहे, पसरी ख़ामोशियाँ
नहि कर बरजोड़ी, नहि गलबहियाँ

करम मोहे मीरा जैइसे, लिखे विधाता
पूरी उमर संग, मोहे रहेगी सिसकियाँ
ओ बांके छोरे तू, छोड़ मोरी बहियाँ

नैनन में नोर लिए, मन सराबोर है
जिनगी अधीर, अधीर मोरी अँखियाँ
ओ बांके छोरे तू, छोड़ मोरी बहियाँ
--अभिषेक कुमार ''अभी''


O banke chhore tu, chhod mori bahiyaan
Nahi kar barjori, nahi galbahiyaan

Piya nahi paas mohe, kaise khelun holi
Man sun aangan suna, paas tanhaiyan
Nahi kar barjodi, nahi galbahiyaan

Bhaye nahi teez ye, baye n tyohar hai
Man ko bhaye mohe, pasari khamoshiyan
O banke chhore tu, chhod mori bahiyaan

Karam mohe meera jaise, likhe vidhata
Poori umar sang, mohe rahegi sisakiyan
Nahi kar barjodi, nahi galbahiyaan

Nainan me nor liye, man sarabor hai
Jinagi adheer, adheer mori ankhiyan
O banke chhore tu, chhod mori bahiyaan

--Abhishek Kumar ''Abhi''

28 comments:

  1. Replies
    1. सुन्दर....................

      Delete
    2. आपका स्वागत है
      और सराहना प्रदान करने हेतु आपका हार्दिक आभार।

      Delete
  2. बहुत सुंदर ! अभी जी.
    होली की मंगलकामनाएँ !
    एक शब्द खटक रहा है - बरजोरी हो या बरजोड़ी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय सर आपका हार्दिक आभार।
      (मुझे भी संदेह है इसमें, कृपया आप ही सही शब्द कहें।मैं सुधर कर लूँगा।)
      सादर

      Delete
    2. अभी जी,सादर.
      मुझे लगता है बरजोरी शब्द होना चाहिए.कई पुराने हिंदी फिल्मों के होली वाले गीतों में बरजोरी शब्द का प्रयोग हुआ है.

      Delete
    3. हार्दिक आभार सर
      (मैंने सही किया। पुनः हार्दिक आभार)

      Delete
  3. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय सर आपका हार्दिक आभार।

      Delete
  4. बहुत सुन्दर , होली की शुभकामनायें....:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय उपासना जी, आपका हार्दिक आभारी हूँ।
      आपको भी स-परिवार होली की बहुत बहुत शुभकामनायें।

      Delete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (16-03-2014) को "रंगों के पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा मंच-1553) पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    रंगों के पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय सर आपके स्नेह से अभिभूत हूँ।
      आप जो मेरे हौसले के पर को मज़बूती प्रदान कर रहे हैं इसके लिए मैं सदा आपका आभारी रहूँगा।
      आप को भी स-परिवार होली की बहुत बहुत शुभकामनायें
      आभार सहित
      —अभिषेक कुमार ''अभी''

      Delete
  6. HMMMMMM.....
    yah to manu samjh me hi nahi aaya....pata nahi kya-2 likh diya...
    wish u a vry happy holi to u n ur family......:-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस रचना में ''सारिका'' जी
      विरह/एकाकी का भाव है, जिसमें कोई तीज या त्यौहार मन को नहीं रास आता है.

      नायिका मनचले लड़कों से कह रही है
      ''ओ मनचले मेरी बाहें छोड़
      मुझसे जोड़ जबरदस्ती मत कर

      मेरे सजन पास नहीं है
      इसलिए मन और घर दोनों ही सुना है

      मुझे ये तीज और त्याहार पसंद नहीं
      ये जो घर में खामोशियाँ है यही पसंद है

      मेरी क़िस्मत उस भगवान् ने मीरा जैसी लिखी है
      जिसमें सिर्फ दर्द और विरह है

      आँखों में सिर्फ आँसू हैं और मन करुणा से भरा हुआ है
      और इसलिए मेरी ज़िंदगी में सिर्फ और सिर्फ व्यकुलता है।

      सादर

      Delete
    2. wow.......ha ab samjhi.....thanks....:-)

      Delete
    3. आपका हार्दिक आभार

      Delete
  7. होली और विरह ... जन्म जन्म का नाता है ...
    सुन्दर भावप्रधान रचना ... होली कि बधाई ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हार्दिक आभार की इस विरह अभिव्यक्ति के साथ आत्मसाध्य हुए और सराहना प्रदान की।

      आपको भी स-परिवार होली कि हार्दिक शुभकामनायें।

      Delete
  8. होली की सीना जोरी--
    बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हार्दिक आभार की इस विरह अभिव्यक्ति के साथ आत्मसाध्य हुए और सराहना प्रदान की।

      आपको भी स-परिवार होली कि हार्दिक शुभकामनायें।

      Delete
  9. वाह...सामयिक और सुन्दर पोस्ट.....आप को भी होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@हास्यकविता/ जोरू का गुलाम

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हार्दिक आभार
      आप को भी स-परिवार होली की बहुत बहुत शुभकामनायें

      Delete
  10. Replies
    1. आपका हार्दिक आभार
      आप को भी स-परिवार होली की बहुत बहुत शुभकामनायें

      Delete
  11. बहुत सुंदरभावपूर्ण नायिका की याचना.. होली की शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हार्दिक आभार
      आप को भी स-परिवार होली की बहुत बहुत शुभकामनायें

      Delete