Wednesday, 5 March 2014

अभिषेक कुमार अभी की ''ख्वाहिश''/Abhishek Kumar Abhi Ki ''Khwahish''

ये धूप, और इसकी, तपिश मौला
ये मुफ़्लिसी, इसकी, ख़लिश मौला

है खिंच गई, सरहदें, ज़मीं पे यहाँ
हो गई परिंदों, पे भी, बंदिश मौला

तूने सभी को, एक सा बनाया था
फिर किसने बोई, ये रंजिश मौला

हैं फूल से लगते, पैदाइश के वक़्त
ताउम्र वैसे रहें, ये ख्वाहिश मौला

मैं आज, पल पल, मर रहा हूँ यहाँ
देख दौरे जहां की, नुमा'इश मौला

दुआ मांगता 'अभी' तेरी रहमत की
देख नज़र उठा यही गुज़ारिश मौला
—अभिषेक कुमार ''अभी''



Ye dhoop or iski tapish maula.
Ye muflisee iski khalish maula.

Hai khich gayi sarhden zmin pe yhan
Ho gayi prindon pe bhi bandish maula.

Tune sabhi ko ek sa banaya tha
Fir kisne boyi ye ranjish maula.

Hain phool se lagte paidaish ke waqt
Taumr waise rhen ye khwahish maula.

Main aaj pal pal mar rha hun yahan
Dekh daure jahan ki numa'ish maula.

Duaa mangta 'abhi' teri rahmat kee
Dekh nazar utha yahi guzarish maula.

—Abhishek Kumar ''Abhi''

24 comments:

  1. खूबसूरत और ज़माने के शेर हैं सभी ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  2. तूने सभी को, एक सा बनाया था
    फिर किसने बोई, ये रंजिश मौला
    ...बहुत ख़ूबसूरत और दिल को छूती प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत शेर..!! हकीकत को बयां करते हुए ....

    ReplyDelete
  4. तूने सभी को, एक सा बनाया था
    फिर किसने बोई, ये रंजिश मौला...बहुत ख़ूबसूरत

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 08/03/2014 को "जादू है आवाज में":चर्चा मंच :चर्चा अंक :1545 पर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सम्मानित ''राजीव जी'' आपका हार्दिक शुक्रगुज़ार हूँ।

      Delete
  6. बहुत सुंदर .......सशक्त लेखन !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सम्मानित ''संजय भास्‍कर'' आपका हार्दिक शुक्रगुज़ार हूँ।

      Delete
  7. अति सुंदर भाव प्रवाह

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हार्दिक शुक्रगुज़ार हूँ।

      Delete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (10-03-2014) को आज की अभिव्यक्ति; चर्चा मंच 1547 पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हार्दिक शुक्रगुज़ार हूँ।

      Delete
  9. बहुत सुंदर "अभि" !!

    ReplyDelete