Friday, 9 May 2014

वो फिज़ाएँ रौनकें, वो बहारें/Aaj fir lagta wo pukaaren

वो फिज़ाएँ रौनकें, वो बहारें
आज फिर लगता वो पुकारें

उनके पहलू में एक एक पल जो बिता है
उस एक पल में सदियों को हमने जिया है
वो जज़्बात एहसास वो उनका अपनापन
कानों में धुन रह रह के आती आरे आरे  

वो फिज़ाएँ रौनकें, वो बहारें
आज फिर लगता वो पुकारें

दिल का हर रिश्ता ही अनमोल होता है
जो न समझे इसे वो ख़ुशी को खोता है
ज़िंदगी में सिवा, प्यार के, क्या रखा है
कर लो कर लो अपने दिल से इज़हारें

वो फिज़ाएँ रौनकें, वो बहारें
आज फिर लगता वो पुकारें

ज़मीं पे ही तो जन्नत की तमाम खुशियाँ
हर एक दिल में बना लो अपना आशियाँ
किसी बंधन से न रुकें कोई वैर न पालें
दिल में अपने हो सिर्फ़ मुहब्बत की खुमारें

वो फिज़ाएँ रौनकें, वो बहारें
आज फिर लगता वो पुकारें
--अभिषेक कुमार ''अभी''

Wo fizayen raunken wo baharen
Aaj fir lagta wo pukaaren.

Unke pahlu me ek ek pal jo bita hai
Us ek pal me sadiyon ko hamne jiya hai
Wo jazbaat ehsaas wo unka apnapan
Kanon me dhun rah rah ke aati aare aare

Wo fizayen raunken wo baharen
Aaj fir lagta wo pukaaren.

Dil kaa har rishtaa hi anmol hotaa hai
Jo n samjhe ise wo khushi ko khota hai
Zindgi me siwa, pyaar ke, kya rakha hai
Kar lo kar lo apne dil se izhaaren

Wo fizayen raunken wo baharen
Aaj fir lagta wo pukaaren.

Zmin pe hi to jannat ki tamam khushiyan
Har ek dil me bana lo apna aashiyan
Kisi bandhan se n rukea koi vair n palen
Dil me apne ho sirf muhabbat ki khumaren

Wo fizayen raunken wo baharen
Aaj fir lagta wo pukaaren.
--Abhishek Kumar ''Abhi''

18 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (10-05-2014) को "मेरी हैरानियों का जवाब बस माँ" (चर्चा मंच-1608) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर और लाजवाब गजल...
    :-)

    ReplyDelete
  3. बहुत भावपूर्ण एवं सरस रचना !

    ReplyDelete
  4. लाजबाब गजल लिखें है .

    ReplyDelete
  5. भाव प्रेम के उमड रहे हैं मन में सारे,
    तब आपको क्यूं न लगे उन्हें पुकारें।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रेरक प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  7. वो फिज़ाएँ रौनकें, वो बहारें
    आज फिर लगता वो पुकारें....bahut badhiya

    ReplyDelete
  8. वो फिजाएं रौनके....मन मोह लिया, बेहद खूबसूरत ।

    ReplyDelete
  9. बहुत ही खूबसूरत रचना....

    ReplyDelete
  10. आपकी लिखी रचना मंगलवार 13 मई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर.....

    ReplyDelete
  12. सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  13. बहित हो लाजवाब रचना है ...

    ReplyDelete
  14. आज फिर लगता है वो पुकारें...बहुत सुंदर!

    ReplyDelete